Explore

Search
Close this search box.

Search

Tuesday, February 27, 2024, 8:12 pm

Tuesday, February 27, 2024, 8:12 pm

Search
Close this search box.
LATEST NEWS
Lifestyle

“आज के युवा परिवर्तन के अगुआ के रूप में राष्ट्रमंडल को युवाओं में विश्वास रखने के लिए प्रेरित करते हैं “- राष्ट्रमंडल महासचिव पैट्रीसिया स्कॉटलैंड

पैट्रीसिया स्कॉटलैंड
Share This Post

‘इनॉगरल हार्टफुलनेस चेंजमेकर अवार्ड’ से सम्मानित राष्ट्रमंडल महासचिव पैट्रीसिया स्कॉटलैंड ने 1.5 लाख छात्रों के साथ हार्टफुलनेस यूथ यूनाइट और हार्टफुलनेस निबंध इवेंट साझेदारी का शुभारंभ कियापैट्रीसिया स्कॉटलैंड

हैदराबाद, भारत – 17 जनवरी 2024: हार्टफुलनेस के मार्गदर्शक और श्री राम चंद्र मिशन के अध्यक्ष, श्रद्धेय दाजी ने आरटी. माननीय पैट्रीसिया स्कॉटलैंड केसी, राष्ट्रमंडल महासचिव को ‘इनॉगरल हार्टफुलनेस चेंजमेकर’ पुरस्कार प्रदान किया| यह पुरस्कार उनकी हार्टफुलनेस के विश्व मुख्यालय कान्हा शांति वनम की तीन दिवसीय यात्रा के दौरान प्रदान किया गया, जो राष्ट्रमंडल महासचिव के लिए और यूनाइटेड किंगडम स्थित एक प्रमुख सार्वजनिक सेवा पमुख के लिए यहाँ की पहली यात्रा थी।
हार्टफुलनेस चेंजमेकर पुरस्कार एक ऐसे व्यक्ति को प्रदान किया जाता है जिसने अपने कार्य क्षेत्रों में करुणापूर्ण गतिविधियों के माध्यम से सेवा के प्रति प्रतिबद्धता का उदाहरण दिया हो और अधिक एकीकृत और हार्दिक वैश्विक समुदाय को बढ़ावा देने के लिए समर्पित हो।
“हमें राष्ट्रमंडल महासचिव, पैट्रीसिया स्कॉटलैंड के कान्हा शांति वनम में हमसे मिलने और उन्हें हार्टफुलनेस चेंजमेकर अवार्ड से सम्मानित करने की खुशी है,” हार्टफुलनेस के वैश्विक मार्गदर्शक और श्री राम चंद्र मिशन के अध्यक्ष दाजी ने कहा। “अपनी सेवा के वर्षों में वे दुनिया भर के युवाओं का समर्थन करने के लिए बहुत ऊँचाई पर चली गई हैं, जैसा हम अपनी हार्टफुलनेस पहल के माध्यम से हासिल करने की उम्मीद करते हैं। मुझे महासचिव स्कॉटलैंड और राष्ट्रमंडल के साथ हार्टफुलनेस निबंध कार्यक्रम के माध्यम से इस साझेदारी को शुरू करने में खुशी हो रही है, जो करुणापूर्ण गतिविधियों पर केंद्रित है। मुझे यकीन है कि यह कई महान चीजों की शुरुआत है जिन्हें हम सब एक साथ काम करके हासिल करेंगे।पैट्रीसिया स्कॉटलैंड
महासचिव स्कॉटलैंड की यात्रा ‘यूथ यूनाइट’ के शुभारंभ के साथ हुई, जो सार्थक जुड़ावों और विचारों के आदान-प्रदान को सक्षम करने हेतु युवाओं को एक साथ लाने के लिए प्रतिबद्ध एक हार्टफुलनेस पहल है और विविध एवं अद्वितीय दृष्टिकोणों को साझा करने के माध्यम से खुले दिमाग को प्रोत्साहित करती है।
हार्टफुलनेस की उपस्थिति सम्पूर्ण भारत के 500 से अधिक विश्वविद्यालयों एवं कालेजों में है| यूथ यूनाइट इससे जुड़े युवाओं को एक साथ लाने, उन्हें मेंटरशिप सहयोग प्रदान करने, सभी उम्र के युवाओं को एक साथ लाने के अवसर खोजने और व्यक्तिगत एवं व्यावसायिक उत्कृष्टता के मार्ग पर हर युवा व्यक्ति का समर्थन करने का प्रयास करता है। यूथ यूनाइट का L.I.G.H.T. घटक, ( Lead through Inner Guidance Using Heartfulness Techniques- हार्टफुलनेस तकनीकों का उपयोग करके आंतरिक मार्गदर्शन के माध्यम से नेतृत्व करना) भावनात्मक, मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक विकास के माध्यम से युवाओं के समग्र विकास में सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध है। तीन महाद्वीपों में 50 देशों के 150,000 से अधिक युवाओं ने एक वर्ष की अवधि के लिए इस नेटवर्क में शामिल होने के लिए पंजीकरण कराया है। इतने युवाओं को शामिल करने के लिए सैकड़ों हार्टफुलनेस स्वयंसेवकों ने अथक प्रयास किया। इसका आधिकारिक आरंभिक कार्यक्रम कान्हा शांति वनम में 14,000 से अधिक उपस्थित लोगों के साथ हुआ, साथ ही पूरे भारत के हार्टफुलनेस सेंटर्स में, जिन्हें हार्टस्पॉट्स के नाम से जाना जाता है, वर्चुअल और व्यक्तिगत रूप से कार्यक्रम हुए|
राष्ट्रमंडल सचिवालय सदस्य देशों को लोकतांत्रिक और समावेशी संस्थानों का निर्माण करने, शासन को मजबूत करने और न्याय और मानवाधिकारों को बढ़ावा देने के लिए सहयोग करता है। उनका काम अर्थव्यवस्थाओं को विकसित करने और व्यापार को बढ़ावा देने, राष्ट्रीय स्तर पर लचीलापन प्रदान करने, युवाओं को सशक्त बनाने और जलवायु परिवर्तन, ऋण एवं असमानता जैसे खतरों को दूर करने में मदद करता है।पैट्रीसिया स्कॉटलैंड
राष्ट्रमंडल सचिवालय ने 2023 को युवा वर्ष के रूप में नामित किया है और समोआ में राष्ट्रमंडल शासनाध्यक्षों की बैठक की मेजबानी तक 2024 तक इस फोकस को जारी रखा है। 50 वर्षों से अधिक समय से राष्ट्रमंडल युवा कार्यक्रम ने 56 राष्ट्रमंडल देशों में युवाओं को ऊर्जावान, संलग्न, सशक्त और प्रोत्साहित करने के लिए काम किया है।
राष्ट्रमंडल महासचिव आरटी. माननीय पैट्रीसिया स्कॉटलैंड केसी ने कहा, “युवा लोग राष्ट्रमंडल चार्टर का केंद्र हैं। उनकी जरूरतों, आशाओं और सपनों को केंद्रित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि न केवल वे भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं, बल्कि वे महत्वपूर्ण हैं और जीवन बदलने वाला काम अभी शुरू होता है। हम युवाओं के लिए जो कुछ भी करते हैं, उसके सम्मान में मैं इस पुरस्कार को कृतज्ञतापूर्वक स्वीकार करती हूँ और मैं प्रतिज्ञा करती हूँ कि हम उनके काम को बढ़ाना जारी रखेंगे, उनकी चिंताओं पर ध्यान देंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि उनके विचारों को सुना जाए। मैं इस साझेदारी के लिए भी आभारी हूँ जो हमें राष्ट्रमंडल में अधिक युवाओं का समर्थन करने में मदद करेगी।“
उन्होंने दाजी के संदर्भ में कहा, “दाजी हार्टफुलनेस के पीछे की मार्गदर्शक शक्ति हैं। वे मानवता के आध्यात्मिक उत्थान के लिए दृष्टि, करुणा और अटूट प्रतिबद्धता के प्रतीक है। उन्होंने दुनिया भर में अनगिनत लोगों के जीवन पर असर डाला है।“
स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा, “स्वामी विवेकानंद की शिक्षाएँ हमेशा की तरह आज भी गूंज रही हैं। निर्भयता, शक्ति, ज्ञान की खोज के लिए उनका आह्वान युगों से गूंजता है; और युवाओं को परिवर्तन के माध्यम के रूप में देखने की उनकी दृष्टि राष्ट्रमंडल को युवाओं पर अपना भरोसा रखने के लिए प्रेरित करती है ताकि हम एक दयालु, समझदार, समृद्ध और न्यायसंगत दुनिया का निर्माण कर सकें, जिसे हम सभी देखना चाहते हैं।
राष्ट्रीय युवा दिवस के महत्व पर कहते हुए सुश्री पैट्रीसिया स्कॉटलैंड ने कहा, “युवाओं का वर्ष हमारा मार्गदर्शन करने वाले मूल्यों के कारण महत्वपूर्ण है। राष्ट्रमंडल की भविष्य की सफलता, मानवता की सामूहिक संभावनाओं के रूप में सतत विकास, समानता और लोकतंत्र को आगे बढ़ाने और सहिष्णुता एवं शांति को समझने के लिए हमारे 1.5 बिलियन युवाओं की संलग्नता, रचनात्मकता और प्रतिभा पर निर्भर करती है। राष्ट्रमंडल नेताओं ने बार-बार युवा रोजगार और उद्यमशीलता के जरिए युवाओं के विकास और युवाओं के दिल में इस भावना और प्रतिबद्धता को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्धता दिखाई है, और यह राष्ट्रमंडल परिवार के युवाओं को पहचानने और सराहने के प्रमुख प्रयास हैं।पैट्रीसिया स्कॉटलैंड
आप यहाँ जो कुछ भी करते हैं वह हमारी साझा दृष्टि का प्रतीक है, जिसमें मौलिक अधिकार के रूप में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा शामिल है और एक बृहत रूप से मानव विकास और हर किसी की क्षमता के उपयोग के लिए एक शक्तिशाली साधन है। अच्छी शिक्षा का मतलब केवल पढ़ाई के पाठ्यक्रमों से नहीं है – अच्छी शिक्षा सहिष्णुता, सम्मान, एकजुटता, समावेशिता और वैश्विक नागरिकता के आवश्यक गुणों को विकसित और स्थापित करती है। ये गुण आज की दुनिया में आवश्यक मार्गदर्शक हैं और वे हमारे राष्ट्रमंडल को रेखांकित करते हैं। राष्ट्रमंडल की असीम क्षमता दुनिया में अच्छाई के लिए एक ताकत बनने की है, जो हमारी सर्वोच्च महत्वाकांक्षा की अपेक्षा करता है। यह हमें ऐसे समय में ताकत और आत्मविश्वास देता है जब दुनिया अनिश्चित महसूस करती है। और यह एकता हमें गरीबी, आर्थिक संघर्ष, भूख जैसी गंभीर चुनौतियों का सामना करने वाले विश्व में शक्ति प्रदान करती है। राष्ट्रमंडल एक साथ खड़ा है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय में प्रकाश स्तंभ के रूप में दैदीप्यमान है। यह 2024 का राष्ट्रमंडल है जो आपकी सेवा करने के लिए प्रतिबद्ध है और जिसका आप भविष्य में नेतृत्व करेंगे। यह निर्णायक और धन्य क्षण है। हमारी विरासत को नाटकीय बदलाव आकार दे रहे हैं। यह आपका समय है। आपके पास हमारे साथ खड़े होने की इच्छाशक्ति, और कौशल है। मुझे पता है कि आपको अच्छी तरह से सिखाया गया है। हम एक समान चुनौतियों का सामना करते हैं और हमें आपके साहस और प्रगति की प्यास पर भरोसा है।

मैं आभारी हूँ कि हार्टफुलनेस ने हमारे युवाओं के वर्ष का जश्न मनाने के लिए सरकारों और संस्थानों के साथ हाथ मिलाया है। सामूहिक मानसिकता में एक बदलाव दिखाई पड़ रहा है कि युवा लोग परिवर्तन के सूत्रधार हैं और आज और कल के नेता हैं। ऊर्जा, रचनात्मकता और दृढ़ संकल्प हमारी सामूहिक ताकतों के पीछे प्रेरक शक्तियाँ हैं| युवाओं की आकांक्षाओं के सपनों में देश और दुनिया को बदलने की शक्ति है। यूथ कनेक्ट कार्यक्रम विश्वविद्यालय के छात्रों को उनके व्यक्तिगत और पेशेवर करियर के प्रत्येक चरण में सफलतापूर्वक पहुँचने के लिए आवश्यक जीवन कौशल से जोड़ता है।
हार्टफुलनेस के मार्गदर्शक और श्री राम चंद्र मिशन के अध्यक्ष श्रद्धेय दाजी ने कहा, “आज मुझे जो सबसे ज्यादा प्रभावित करता है वह एकता से संबंधित है। एकता तब तक नहीं हो सकती जब तक सद्भाव न हो। चिंतनशील मन और शांति के बिना सद्भाव संभव नहीं है। शांति चिंतनशील मन से आती है जो केंद्रित मन का एक उत्पाद है। एक केंद्रित मन ध्यानस्थ मन से उत्पन्न होता है। और इसलिए हम अत्यधिक चिंतनशील मन रखने, अधिक सामंजस्यपूर्ण बनने, अपने भीतर शांति लाने और व्यक्तिगत स्तर पर खुद को बदलने के लिए ध्यान की सलाह देते हैं। आध्यात्मिकता अपने आप को देखने के लिए है। हम अपने भाग्य के स्वयं निर्माता हैं। हम भगवान सहित किसी और को दोष नहीं दे सकते। आइए इस ग्रह को इस तरह से स्वर्ग के जैसा स्थान बनाएँ कि लोग मृत्यु के बाद अन्य स्वर्ग की लालसा करना बंद कर दें। हमें सद्भाव और प्रेम के लिए मिलकर काम करना होगा जो ध्यानस्थ मन से उत्पन्न होते हैं। अगर आधा दर्जन आतंकी दुनिया में हंगामा मचा सकते हैं तो कल्पना कीजिए कि कॉमनवेल्थ के ये 1.5 अरब युवा उसे स्वर्ग बनाने के लिए क्या कर सकते हैं। हमें समर्थन की जरूरत है। माननीय राष्ट्रमंडल महासचिव पेट्रैसिया स्कॉटलैंड ने दरवाजे खोलने का वादा किया है जो युवाओं लिए अपनी प्रतिभा, रुचियों और इच्छा को व्यक्त करने के लिए अनुकूल होंगे ताकि दुनिया को बदला जा सके। आइए हम अपने दिल से यह यात्रा शुरू करें। स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि जीवन का उद्देश्य बहुत सरल है –इसका सार यह है कि यह चेतना से संबंधित है।
भावातीत ध्यान के प्रमुख श्री टोनी नाडर ने कहा, “दाजी की महान दृष्टि इस भूमि के प्रतिबिंब और मानवता के शुभचिंतक के रूप में है। विवेकानंद के जन्मदिन के इस अवसर पर और महर्षि महेश योगी के जन्मदिन पर भी दाजी ने हमें अंतरधार्मिक एकता का ज्ञान दिया है जो एक स्वीकार्यता है और यह ज्ञान है कि वास्तविकता उस अस्तित्व के क्षेत्र पर आधारित है जो सभी सतही मूल्यों से परे है। जब हम बाहरी दुनिया को देखते हैं, तो हमारी इंद्रियाँ हमें भौतिक तत्व दिखाती हैं और हम उनके वैज्ञानिक आधार का अध्ययन करते हैं| लेकिन विज्ञान इन तत्वों की संरचना को नहीं जानता है। जब वैज्ञानिक गहराई में गए तो उन्हें वास्तविकता के क्वांटम स्तर का पता चला, जिसमें क्वांटम क्षेत्र सिद्धांत (Quantum field theory) एकीकृत क्षेत्र सिद्धांत (Unified Field theory) में और भी गहरा हो गया है। संपूर्ण ब्रह्मांड और अभिव्यक्ति एक क्षेत्र से आती है जो एक गणितीय वास्तविकता है और भौतिक ऊर्जा से परे और अमूर्त है।“
“पिछली शताब्दी की शुरुआत में कई महान वैज्ञानिकों ने इसे चेतना के क्षेत्र के रूप में समझना शुरू किया। वेदांत इस क्षेत्र के बारे में बात करता है – जो वास्तविकता के विभिन्न पहलुओं में प्रकट होता है। हमारी मानवीय चेतना गौण नहीं बल्कि प्राथमिक अभिव्यक्ति है जो अस्तित्व की विभिन्न परतों में प्रकट होती है। चेतना ही सब कुछ है। अभिव्यक्ति सबसे सरल स्तर से पौधों की उच्च चेतना की ओर बढ़ती है। हम इसे कान्हा शांति वनम में दाजी की प्रेमपूर्ण देखभाल के माध्यम से इतनी खूबसूरती से देखते हैं जहाँ पौधे जीवित हैं और उनके अपने परिणाम हैं। चेतना का क्षेत्र सर्वव्यापी है जैसा कि विवेकानंद/महर्षि योगी ने परम वास्तविकता और असीम क्षेत्र के रूप में बताया है।“
“यदि वास्तविकता एक भौतिक पदार्थ नहीं है, तो समस्या का उत्तर वास्तविकता में है। यही भौतिक पहलू की सुंदरता है। भारत की यह महान भूमि दुनिया को काल्पनिक सतही जीवन के बजाय जीवन के सच्चे क्षेत्र से समाधान प्रदान करती है। यह चेतना का ही पहलू है। वे सागर की लहरों की तरह हैं, जबकि आपके पास इसकी विभिन्न तरंगों को पहचानने की सीमित क्षमता है। वे अलग दिखती हैं लेकिन एक ही सागर का हिस्सा होती हैं।“
“दाजी उस चेतना से परे शून्य की ओर जाना पसंद करते हैं – शून्यता हर चीज के आधार के रूप में आती है और वह अद्भुत पारलौकिक आयाम है। हम सागर की लहरों के रूप में एक साथ हैं। मतभेद एकता के लिए खतरा नहीं हैं| यह इसपर निर्भर है कि हमारी चेतना कहाँ जाती है – क्या हमारा ध्यान अंतर पर जाता है या क्या यह पूरे क्षेत्र को स्वीकार करता है? क्या वृक्ष अपनी शाखाओं से लड़ता है या उनसे पोषण लेता है और पूरी तरह से खिलता हुआ वृक्ष बन जाता है? हम मतभेदों के साथ एकता को बढ़ावा देते हैं जो एक ही बगीचे में विभिन्न रंगों के फूलों के होने जैसा आनंदपूर्ण है। हमें इसे सुरक्षित बनाने के लिए सब के बीच काम करना होगा। फिर हमें सही क्षेत्रों का पोषण और उचित रोपण करना होगा। सतह पर मूल्यों का आनंद लें क्योंकि वे इससे पोषित महसूस करते हैं। लेकिन जीवन चेतना के स्तर पर जिया जाता है। “
राष्ट्रमंडल के लक्ष्य और सेवा के प्रति इसकी प्रतिबद्धता स्वामी विवेकानंद के साथ गहराई से मेल खाती है, जो मानवता की शांति पूर्वक सेवा के जीवन के लिए समर्पित एक भिक्षु और दार्शनिक थे और जिन्होंने हार्टफुलनेस के मूल्यों को गहराई से प्रभावित किया है।
स्वामी विवेकानंद की जयंती पर, जिसे भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में भी मान्यता प्राप्त है, हार्टफुलनेस इंस्टीट्यूट ने राष्ट्रमंडल की वर्तमान महासचिव पैट्रीसिया स्कॉटलैंड को सेवा के जीवन के प्रति उनकी प्रतिबद्धता और युवाओं की सफलता के प्रति उनके समर्पण के लिए सम्मानित करके युवाओं के लिए राष्ट्रमंडल के समर्थन को मान्यता दी।
महासचिव स्कॉटलैंड ने वार्षिक हार्टफुलनेस निबंध कार्यक्रम शुरू करने में भी मदद की, जिसे अब राष्ट्रमंडल सचिवालय के सहयोग से प्रस्तुत किया गया है। इस वर्ष का विषय था करुणामय गतिविधियाँ: एक अधिक एकीकृत मानवता बनाना। निबंध कार्यक्रम 14-25 वर्ष की आयु के युवाओं के लिए खुला है।
इसके अतिरिक्त 12 जनवरी को दाजी की बेस्टसेलिंग पुस्तक ‘स्पिरिच्युअल अनाटॉमी; (आध्यात्मिक शरीर रचना) का भारत में विमोचन किया गया, जो अक्टूबर 2023 में संयुक्त राज्य अमेरिका में जारी की गई थी।
हार्टफुलनेस की स्थापना श्री रामचन्द्र मिशन के नाम से 1945 में शाहजहाँपुर के श्री रामचन्द्र ने की थी, जिन्हें बाबूजी के नाम से भी जाना जाता है। अपने अभ्यासियों के लिए निःशुल्क ध्यान संसाधनों के लिए 78 से अधिक वर्षों की प्रतिबद्धता के साथ, हार्टफुलनेस के अब 160 देशों में 5 मिलियन से अधिक ध्यानकर्ता और 16,000 से अधिक प्रशिक्षक हैं।
अप्रैल 2024 में हार्टफुलनेस के द्वारा दुनिया भर में नियोजित कार्यक्रमों के साथ बाबूजी की 125वीं जयंती मनाएगी, जिसमें कान्हा शांति वनम में विशाल सामूहिक ध्यान सभा में आश्चर्यजनक 125,000 उपस्थित लोगों की मेजबानी की जाएगी| इस के साथ कान्हा शांति वनम में एक अंतर्राष्ट्रीय संगीत समारोह, पेरिस में यूनेस्को मुख्यालय में एक योग प्रदर्शनी और अन्य कई आयोजन होंगे|।
दिसंबर 2023 में, भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2024 में बाबूजी महाराज की 125वीं जयंती समारोह का शुभारंभ करने के लिए कान्हा शांति वनम का दौरा किया। हार्टफुलनेस के वर्तमान वैश्विक मार्गदर्शक, दाजी को फरवरी 2023 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।


Share This Post

Leave a Comment

advertisement
TECHNOLOGY
Voting Poll
What does "money" mean to you?
  • Add your answer