Explore

Search
Close this search box.

Search

Thursday, July 18, 2024, 1:59 am

Thursday, July 18, 2024, 1:59 am

Search
Close this search box.

बादलों ने बढ़ाई उमस, तूफान से बढ़ी हवा की रफ्तार

Share This Post

प्री मानसून से हल्की बारिश का अनुमान

छतरपुर। इस समय सूर्य देव आग उगल रहे हैं। भीषण गर्मी से लोगों का जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। तापमान में भले ही एक-दो डिग्री की गिरावट हो मगर बादलों की वजह से उमस बढ़ गई है और यही उमस लोगों को परेशानी में डाल रही है। मानसून आने में अभी करीब 10 दिन का समय है लेकिन प्री मानसून के कारण कहीं बूंदाबांदी तो कहीं हल्की बारिश होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं। पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष करीब डेढ़ डिग्री तापमान में वृद्धि दर्ज की गई है।

इस समय चक्रवाती तूफान ने सबका ध्यान अपनी ओर खींचा है। हालांकि मौसम विभाग के मुताबिक बुन्देलखण्ड क्षेत्र में इसका असर कम देखने को मिलेगा। तूफान के कारण हवा की रफ्तार में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। मौसम विभाग के मुताबिक इस वर्ष मानसून 25-26 जून तक बुन्देलखण्ड में सक्रिय होगा। चूंकि केरल तट पर ही मानसून 5 दिन विलंब से आया है इसलिए मानसून की धीमी रफ्तार का इधर भी प्रभाव पड़ेगा। खजुराहो स्थित मौसम विभाग के आरएस परिहार ने बताया कि चक्रवाती तूफान के कारण बादलों ने आसमान में डेरा जमाया है। बादलों के कारण तापमान में डेढ़ डिग्री की गिरावट दर्ज हुई है लेकिन उमस बढ़ गई है। एक दिन पहले तापमान 45 डिग्री पार कर गया था लेकिन बुधवार को तापमान 43 डिग्री दर्ज हुआ। हालांकि रात के तापमान में डेढ़ डिग्री की बढ़ोत्तरी दर्ज हुई है। रातें तापमान के कारण उबल रही हैं। परिणामस्वरूप लोगों को न दिन में सुकून है और न रात में चैन मिल रहा है। पिछले साल 14 जून को तापमान 42 डिग्री के करीब रहा। मौसम विभाग का कहना है कि प्री मानसून की वजह से बादल और आंधी का दौर चलेगा। वर्तमान में 13 से 14 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। यदि हवा की गति बढ़ी तो उससे खतरे बढऩे की संभावनाएं भी नजर आ रही हैं। क्योंकि हवा की बढ़ती रफ्तार का प्रभाव पेड़ों सहित अन्य क्षेत्रों में पड़ता है। विशाल पेड़ या तो उखड़ जाते हैं या टूटकर गिर जाते है, बिजली के खंभे, टीनशेड उखडऩे का खतरा बढ़ जाता है।


Share This Post

Leave a Comment