Explore

Search
Close this search box.

Search

Thursday, July 25, 2024, 2:10 am

Thursday, July 25, 2024, 2:10 am

Search
Close this search box.

कांग्रेस ने अमित शाह के खिलाफ चुनाव आयोग  में की मामले की शिकायत…

Share This Post

देश के गृह मंत्री अमित शाह द्वारा शासकीय अधिकारी, कर्मचारियों को कमल (भाजपा) के पक्ष में काम ना करने पर देख लेने की धमकी देना तानाशाहीपूर्ण रवैया होने के साथ आचार संहिता का खुला उल्लंधन: कांग्रेस

कांग्रेस ने अमित शाह के खिलाफ चुनाव आयोग में की मामले की शिकायत

भोपाल, 29 अक्टूबर 2023: भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली द्वारा दिनांक 9 अक्टूबर, 2023 को मप्र में हो चुकी विधानसभा चुनाव की घोषणा उपरांत मप्र में आदर्श आचार संहिता प्रभावशील है। प्रदेश कांग्रेस के एक प्रतिनिधि मंडल ने आजएक शिकायत सौंपते हुये चुनाव आयोग को बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्री एवं भाजपा नेता श्री अमित शाह ने दिनांक 28 अक्टूबर, 2023 को भोपाल में सार्वजनिक रूप से बैठक के दौरान धमकी दी है कि जो भी अधिकारी कमल का ध्यान न रखे उसे छोड़ना नहीं, एवं यदि कोई कर्मचारी कमल का ध्यान ना रखे या नुकसान पहुंचाए उसकी तत्काल शिकायत की जाएं तथा उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को आदेशित किया कि आप भी मेसेज कर दो की वो किसी को नहीं बचापाएंेंगे। कांग्रेस ने कहा कि श्री शाह द्वारा दी गई यह धमकी सीधे सीधे शासकीय अधिकारी, कर्मचारियों का मनोबल तोड़ने एवं सत्तारूढ़ भाजपा के पक्ष में चुनाव में मदद करने के लिए बाध्य करने की धमकी है, जो कि सीधे सीधे प्रभावशील आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन है।

कांग्रेस ने चुनाव आयोग को बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह द्वारा शासकीय संसाधनों का दुरूपयोग करते हुए भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार करने के साथ साथ शासकीय अधिकारी, कर्मचारियों को कमल के पक्ष में काम ना करने पर देख लेने की धमकी देना चुनाव प्रक्रिया को बाधित करना है तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री, मंत्री एवं भाजपा नेताओं द्वारा प्रदेश में शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियों में भय का वातावरण निर्मित किया जा रहा है जो कि संवैधानिक मूल सिद्धांतों के विपरीत है ।

कांग्रेस ने आग्रह किया कि केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा भोपाल में दिनांक 28 अक्टूबर, 2023 को सार्वजनिक रूप से शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियो को धमकाने एवं भाजपा के पक्ष में कार्य ना करने पर देख लेने की धमकी देकर उन्होंने प्रभावशील आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन किया है इसलिए उनके विरूद्ध प्रकरण दर्ज कर कार्यवाही की जावे जिससे कि विधानसभा के चुनाव का मतदान निष्पक्ष एवं स्वतंत्र रूप से सम्पन्न हो सके जो कि न्यायोचित होगा।

चुनाव आयोग को पत्र सौंपने के लिए प्रतिनिधि मंडल में प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष राजीव सिंह, प्रकाश जैन, जे.पी. धनोपिया और कोषाध्यक्ष अशोक सिंह सहित अन्य कांग्रेसजन उपस्थित थे।


Share This Post

Leave a Comment